ads

शुक्र का मीन में परिवर्तन, जानें भारत पर क्या होगा असर

दैत्यों के गुरु शुक्र ने एक बार फिर राशि परिवर्तन कर लिया है और इस बार यह अपनी उच्च राशि यानि देवगुरु के स्वामित्व वाली मीन राशि (Venus Transit In Pisces) में जा बैठे हैं। ऐसे में जहां शुक्र के इस परिवर्तन का हर व्यक्ति पर खास असर पड़ता दिख रहा है, वहीं इसका प्रभाव देश यानि भारत (Shukra Rashi parivartan Effects on India) पर भी देखने को मिलेगा।

दरअसल शुक्र देव ने साल 2021 में आज यानि 17 मार्च, बुधवार को सुबह 02 बजकर 49 मिनट पर कुंभ से मीन राशि में गोचर (Shukra Rashi parivartan March 2021) कर लिया है और वे अब यहां यानि मीन राशि में 10 अप्रैल 2021 तक रहेंगे।

जानकारों के अनुसार वैदिक ज्योतिष में शुक्र ग्रह को एक शुभ ग्रह माना गया है। शुक्र वृषभ और तुला राशि का स्वामी होता है और मीन इसकी उच्च राशि है, जबकि कन्या इसकी नीच राशि कहलाती है। शुक्र को 27 नक्षत्रों में से भरणी, पूर्वा फाल्गुनी और पूर्वाषाढ़ा नक्षत्रों का स्वामित्व प्राप्त है।

ग्रहों में बुध और शनि ग्रह शुक्र के मित्र ग्रह हैं और तथा सूर्य और चंद्रमा इसके शत्रु ग्रह माने जाते हैं। शुक्र का गोचर 23 दिन की अवधि का होता है अर्थात शुक्र एक राशि में क़रीब 23 दिन तक रहता है।

लेकिन इनके इस परिवर्तन का असर देश (Shukra Rashi parivartan Effects on India) में कई तरह से देखने को मिल सकता है। दरअसल आजाद भारत की कुंडली में शुक्र तृतीय भाव (चंद्र की राशि कर्क) यानि शत्रु राशि में विराजमान हैं।

लेकिन वर्तमान स्थिति में ये देश के ग्यारहवें भाव यानि आय भाव में मीन राशि में आ गए हैं। जहां सूर्य पहले से ही विराजमान हैं, जो कि इनके शत्रु हैं।

MUST READ : शुक्र के इस परिवर्तन का आप पर असर

https://www.patrika.com/astrology-and-spirituality/shukra-rashi-parivartan-17-march-2021-effects-and-affects-on-you-6743194/

ऐसे में ज्योतिष के जानकारों की मानें तो जहां एक ओर ये देश (Shukra Rashi parivartan Effects on India) की आय को प्रभावित करते दिख रहे हैं। वहीं देश में होने वाले चुनावों पर भी इनके चलते बदलाव की लहर का असर देखने को मिल सकता है।

इसके अलावा एकादश भाव छठे भाव यानि रोग भाव से दृष्ट है। खास बात ये कि देश की कुंडली (Shukra Rashi parivartan Effects on India) में रोग भाव यानि छठा भाव तुला राशि का है, जो शुक्र के स्वामित्व की राशि है। ऐसे में इस समय देश में विषाणु से जुड़ी समस्या की स्थिति वापस आती दिख रही है। इसे ज्योतिष कोरोना की वापसी के तौर पर ले रहे हैं।

वहीं सूर्य के कुछ समय बाद स्थान परिवर्तन के साथ ही एक बार फिर पड़ोसी देशों से तनाव की प्रबल संभावना भी बनती दिख रही है।

ग्रहों की दिशा और दिशा इस समय सरकार की ओर से ईधन की कीमतों में बदलाव के आसार की ओर भी संकेत करती दिख रही है।

शुक्र के इस बदलाव के चलते देश के कुछ नामी लोग बदनामी का शिकार हो सकते हैं। वहीं इस दौरान देश में कुछ घिनौने अपराध होने की भी संभावना है।

वहीं राहु के मदमस्त होने के चलते इस समय देश में कई गलत बयानबाजी सामने आने से तनाव की संभावना भी बनती दिख रही है। देश के अलावा यदि दुनिया की बात करें तो करीब 1 माह के अंदर ही कुछ देशों पर कार्रवाई की ओर भी ग्रह इशारा करते दिख रहे हैं।

वहीं इस समय शुक्र देश की कुंडली में अपनी नीच राशि कन्या को भी देख रहे हैं, जिसके चलते बुद्धि में परिवर्तन के कारण जहां कुछ गैर जरूरी बयानबाजियां देश में होती दिख रही हैं वहीं इस समय देश में कुछ जगह हड़ताल जैसी स्थितियां भी निर्मित हो सकती हैं।



Source शुक्र का मीन में परिवर्तन, जानें भारत पर क्या होगा असर
https://ift.tt/3lqZRVG

Post a comment

0 Comments