ads

ज्यादातर Heart Attack या Cardiac Arrest सुबह के समय आते हैं बाथरूम में, जानें इसके पीछे का कारण

नई दिल्ली। हार्ट अटैक (Heart Attack) या कार्डियक अरेस्ट (Cardiac Arrest) आज के समय में एक बड़ी समस्या बन चुकी है। इस गंभीर बीमारी के अचानक आने से लोग मौत का शिकार हो जाते है। लेकिन क्या आप जानते है कि ज्यादातर अटैक लोगों को सुबह के समय बाथरूम के अंदर ही आते है। आखिर ऐसा क्यों ? आज हम आपको बता रहे है इसके पीछे का कारण..

बाथरूम में हार्ट अटैक आने के कारण

अक्सर देखा जाता है कि लोगों के हार्ट अटैक के केस सबसे ज्यादा बाथरूम में ही सुनने को मिलते है। दरअसल बाथरूम में हार्ट अटैक (Heart Attack Symptom) आने का सबसे बड़ा कारण होता हैं। प्रेशर का तेजी से बढ़ना जिसके बारे में लोग नही जान पाते। आपको इन वजहों के बारे में जानकारी जरूर होनी चाहिए, ताकि आप खुद को और अपने परिवार को इससे सुरक्षित रख सकें।

प्रेशर से बढ़ती है आशंका

जब हम सुबह के समय टॉयलेट जाते हैं सुबह के समय हमारा ब्लड प्रेशर (High Blood Pressure) थोड़ा हाई होता है और जब हम पेट को साफ करते समय प्रेशर लगाते हैं। और जो लोग इंडियन टॉयलेट का इस्तेमाल करते है उन्हें इसकी समस्या ज्यादा होती है। क्योकि इसमें प्रेशर लगाने की ज्यादा जरूरत पड़ती है। जिससे इसका असर हमारे दिल की धमनियों पर तेजी से पड़ता है। इस वजह से बाथरूम में हार्ट अटैक (Heart Attack In Washroom) आने का खतरा बढ़ जाता है।

हार्ट अटैक से बचाव के तरीके

1. हार्ट अटैक (Heart Attack) के जोखिम के बाद अब हमारा यह जान लेना जरूरी है कि इससे कैसे बचा जा सकता है. अगर आप इंडियन टॉयलेट का इस्तेमाल करते हैं तो ज्यादा देर तक एक ही पोजिशन में न बैठें। इससे आप हार्ट अटैक या कार्डियक अरेस्ट के जोखिम से बच सकते हैं।

2. सुबह के समय जब भी आप स्नान के लिए जाए तो पानी के तापमान शरीर के हिसाब से रखें और सबसे पहले पैरों के तलवों को गीला करें। इसके बाद ही अपने सिर पर पानी डालें। इससे आपके शरीर और बाथरूम के तापमान में संतुलन बन जाएगा।

3. टॉयलेट में पेट साफ करने के लिए ज्यादा जोर ना लगाएं और टॉयलेट में थोड़ा समय लें।

4. नहाते समय अगर आप बाथ टब का इस्तेमाल करते हैं तो इसका असर भी आपकी धमनियों पर पड़ता है. इसलिए अधिक समय तक बाथ टब में न बैठें।

हार्ट अटैक के लक्षण

हार्ट अटैक (Heart Attack Symptom) अचानक आने वाली घातक बीमारी है. इसलिए ये जरूरी है कि आप इसके लक्षण (Heart Attack Symptoms) को पहचान लें ताकि किसी में कभी ऐसे लक्षण दिखें तो आप पहले से सतर्क हो जाए।

1. सीने में तेज दर्द होना

2. सांस लेने में परेशानी आना

3. कमजोरी महसूस करना

4. डायबिटीज (Diabetes) के पेशेंट को कई बार बिना कोई लक्षण दिखे भी हार्ट अटैक आ जाता है. इसे साइलेंट हार्ट अटैक (Silent Heart Attack) कहा जाता है।

5. तनाव और घबराहट होना भी हार्ट अटैक का लक्षण है।

6. चक्कर या उल्टी आना भी हार्ट अटैक का लक्षण हो सकता है।

हार्ट अटैक आने पर तुरंत क्या करें?

अगर किसी में हार्ट अटैक (Heart Attack Ke Upchar) के लक्षण नजर आते हैं तो तुरंत सावधान हो जाएं और ये उपाय करें।

1. किसी व्यक्ति को हार्ट अटैक आए तो उसे सबसे पहले जमीन पर लिटा दें।

2. अगर व्यक्ति ने अधिक टाइट कपड़े पहने हैं तो उन्हें खोल दें।

3. इस बात का ध्यान रखें कि लेटते समय व्यक्ति का सिर थोड़ा ऊपर की ओर हो।

4. एंबुलेंस के लिए तुरंत फोन करें।

5. हाथ-पैर को रगड़ते रहें।



Source ज्यादातर Heart Attack या Cardiac Arrest सुबह के समय आते हैं बाथरूम में, जानें इसके पीछे का कारण
https://ift.tt/3ittHqV

Post a comment

0 Comments